Tuesday, August 13, 2013

वो तंज कसते रहते है मेरी हर बात पर |

वो तंज कसते रहते है मेरी हर बात पर |
में अपने जज्बातों को हँसी में ढाल लेता हु ||

वो कोई मोका नहीं छोड़ते मुझे रुसवा करने का |
मगर गिरकर भी मै खुद को संभाल लेता हु ||

1 comment:

ये थी मेरे मन की बात, आपके मन में क्या है बताए :